पीएम मोदी

भारत के विकास का केंद्र बनेगा पूर्वोत्तर, दक्षिण-पूर्वी देशों से जुड़ेगा मणिपुर : पीएम मोदी

इंफाल, 4 जनवरी (युआईटीवी/आईएएनएस)- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि मणिपुर और पूर्वोत्तर क्षेत्र भारत के विकास मिशन का केंद्र होंगे और राज्य में निमार्णाधीन राजमार्गों को अंतरराष्ट्रीय व्यापार को बढ़ावा देने के लिए दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों से जोड़ा जाएगा। पीएम मोदी ने 4,815 करोड़ रुपये के निवेश के साथ 13 परियोजनाओं का उद्घाटन करने और कुल नौ परियोजनाओं की आधारशिला रखने के बाद इम्फाल के हप्ता कांगजीबुंग मैदान में एक जनसभा को संबोधित करते हुए यह बात कही।

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक्ट ईस्ट ड्रीम के तहत पर्यटन और कनेक्टिविटी पर महत्वाकांक्षी परियोजनाओं को पूरी गंभीरता के साथ लागू किया जा रहा है, जबकि क्षेत्र में शांति बहाल कर दी गई है। उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र के सैकड़ों उग्रवादियों ने हिंसा का रास्ता छोड़ दिया और विकास की मुख्यधारा में शामिल हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि मणिपुर और पूर्वोत्तर क्षेत्र की पर्यटन संभावनाओं का सभी प्रकार की कनेक्टिविटी के साथ पूरा उपयोग किया जा रहा है।

पीएम ने कहा, “मैं जब प्रधानमंत्री नहीं बना था, उससे पहले भी अनेकों बार मणिपुर आया था। मैं जानता था कि आपके दिल में किस बात का दर्द है। और इसलिए 2014 के बाद मैं दिल्ली को, पूरी दिल्ली को, भारत सरकार को आपके दरवाजे तक लेकर आ गया। नेता हों, मंत्री हों, अफसर हों, मैंने सबको कहा कि इस क्षेत्र में आइए, लंबा समय गुजारिए और फिर यहां की जरूरत के मुताबिक योजनाएं बनाइए। और भावना ये नहीं थी कि आपको कुछ देना है। भावना ये थी कि आपका सेवक बनकर जितना हो सके आपके लिए, मणिपुर के लिए, नॉर्थ ईस्ट के लिए सम्पूर्ण समर्पण से, सम्पूर्ण सेवा भाव से काम करना है। और आपने देखा है, आज केंद्रीय मंत्रिमंडल में नॉर्थ ईस्ट के पांच प्रमुख चेहरे, देश के अहम मंत्रालय संभाल रहे हैं।”

उन्होंने आगे कहा, ” कॉमनवैल्थ खेलों से लेकर ओलंपिक्स तक, रेस्लिंग, आर्चरी और बॉक्सिंग से लेकर वेटलिफ्टिंग तक, मणिपुर ने एम सी मेरी कॉम, मीराबाई चानू, बोम्बेला देवी, लायश्रम सरिता देवी कैसे-कैसे बड़े नाम हैं, ऐसे बड़े-बड़े चैम्पियन्स दिये हैं। आपके पास ऐसे कितने ही होनहार हैं, जिन्हें अगर सही गाइडेंस और जरूरी संसाधन मिलें तो वो कमाल कर सकते हैं। यहां हमारे युवाओं में, हमारी बेटियों में ऐसी प्रतिभा भरी हुई है। इसीलिए हमने मणिपुर में आधुनिक स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की स्थापना की है। ये यूनिवर्सिटी इन युवाओं को न केवल उनके सपनों से जोड़ने का काम करेगी, बल्कि खेल जगत में भारत को भी एक नई पहचान देगी। ये देश की नई स्पिरिट है, नया जोश है, जिसका नेतृत्व अब हमारे युवा, हमारी बेटियां करेंगी।”

प्रधानमंत्री ने कहा, ” केंद्र सरकार ने जो ऑयल पाम पर राष्ट्रीय मिशन शुरू किया है, उसका भी बड़ा लाभ नॉर्थ ईस्ट को होगा। आज भारत अपनी जरूरत पूरा करने के लिए विदेशों से बड़ी मात्रा में पाम ऑयल का आयात करता है। इस पर हजारों करोड़ रुपये खर्च किए जाते हैं। ये पैसे भारत के किसानों को मिलें, भारत खाद्य तेल के मामले में आत्मनिर्भर बने, इस दिशा में हमारे प्रयास जारी हैं। 11 हजार करोड़ रुपये के इस ऑयल पाम मिशन से, किसानों की आय बढ़ाने में बहुत मदद मिलेगी और ये ज्यादातर नॉर्थ-ईस्ट में होने वाला है। यहां मणिपुर में भी इस पर तेजी से काम हो रहा है। ऑयल पाम लगाने के लिए, नई मिलें लगाने के लिए सरकार आर्थिक मदद भी दे रही है। “

पिछली कांग्रेस सरकार का नाम लिए बिना प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले लोग पूर्वोत्तर आना चाहते थे, लेकिन यहां पहुंचेंगे कैसे, ये सोचकर रुक जाते थे। इससे यहां के पर्यटन को, टूरिज्म सेक्टर को बहुत नुकसान होता था। लेकिन अब पूर्वोत्तर के शहर ही नहीं, बल्कि गांवों तक भी पहुंचना आसान हो रहा है। आज यहां बड़ी संख्या में नेशनल हाइवे का काम भी आगे बढ़ रहा है और गांव में भी प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत सैकड़ों किलोमीटर की नई सड़कें बन रही हैं। नैचुरल गैस पाइपलाइन जैसी जिन सुविधाओं को कुछ क्षेत्रों का विशेषाधिकार मान लिया था, वो भी अब पूर्वोत्तर तक पहुंच रही है। बढ़ती हुई ये सुविधाएं, बढ़ती हुई ये कनेक्टिविटी, यहां पर टूरिज्म बढ़ाएगी, यहां के नौजवानों के लिए रोजगार के नए अवसर बनाएगी।

मोदी ने पहाड़ी क्षेत्रों के विकास और लोगों के कल्याण के उपाय करने के लिए राज्य सरकार की योजनाओं – गो टू हिल्स और गो टू विलेज की सराहना की।

प्रधानमंत्री ने 1,700 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजना लागत वाले राष्ट्रीय राजमार्गों, लगभग 1,100 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित 2,350 से अधिक मोबाइल टावरों और अत्याधुनिक 150-बिस्तर वाले कैंसर अस्पताल की आधारशिला रखी।

उन्होंने नवनिर्मित 200 बिस्तरों वाले कोविड अस्पताल, थौबल बहुउद्देश्यीय परियोजना की जल संचरण प्रणाली और राष्ट्रीय राजमार्ग-37 पर बराक नदी पर एक महत्वपूर्ण इस्पात पुल का भी उद्घाटन किया।

मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह ने अपने भाषण में राज्य के विकास और लोगों के कल्याण के लिए केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा शुरू की गई विकास परियोजनाओं पर प्रकाश डाला।

इस अवसर पर राज्यपाल ला गणेशन, केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव, केंद्रीय विदेश और शिक्षा राज्य मंत्री राजकुमार रंजन सिंह सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

प्रधानमंत्री ने मणिपुर में विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार अभियान की शुरूआत वर्चुअल की। 60 सीटों वाली मणिपुर विधानसभा के लिए चुनाव अगले साल फरवरी-मार्च में होने की संभावना है, साथ ही उत्तर प्रदेश, पंजाब, उत्तराखंड और गोवा में विधानसभा चुनाव होने हैं।

प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के लिए मणिपुर में व्यापक सुरक्षा व्यवस्था की गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *